SELF / स्वयं

एक चिड़िया और चिड़ा की प्रेमकहानी

एक दिन चिड़िया बोली – मुझे छोड़ कर कभी उड़ तो नहीं जाओगे ?

चिड़ा ने कहा – उड़ जाऊं तो तुम पकड़ लेना.

चिड़िया-मैं तुम्हें पकड़ तो सकती हूँ, पर फिर पा तो नहीं सकती!

यह सुन चिड़े की आँखों में आंसू आ गए और उसने अपने पंख तोड़ दिए और बोला अब हम हमेशा साथ रहेंगे,

लेकिन एक दिन जोर से तूफान आया, चिड़िया उड़ने लगी तभी चिड़ा बोला तुम उड़ जाओ मैं नहीं उड़ सकता !!

चिड़िया- अच्छा अपना ख्याल रखना, कहकर उड़ गई !

जब तूफान थमा और चिड़िया वापस आई तो उसने देखा की चिड़ा मर चुका था और एक डाली पर लिखा था…..
“”काश वो एक बार तो कहती कि मैं तुम्हें नहीं छोड़ सकती”” तो शायद मैं तूफ़ान आने से पहले नहीं मरता ।।

2 replies »

  1. खुदा पर भरोसे का हुनर सिख ले ऐ दोस्त

    सहारे कितने भी सच्चे हो साथ छोड़
    ही जाते है..

    true love never dies ……heart touching story.

Leave a Reply