SELF / स्वयं

विष्णु जी और लक्ष्मीजी संवाद

लक्ष्मी जी : सारा संसार पैसे (मेरे) से चल रहा है, अगर मैं नहीं तो कुछ नहीं …….

विष्णु जी (मुस्कुरा के) : सिद्ध करके दिखाओ .

लक्ष्मी जी ने पृथ्वी पर एक शवयात्रा का दृश्य दिखया – जिसमे लोग शव पर पैसा फेंक रहे थे, कुछ लोग उस पैसे को लूट रहे थे, तो कुछ बटोर रहे थे तो कोई छीन रहा था..

लक्ष्मी जी : देखा …..कितनी कीमत है पैसों की…

विष्णु जी: परन्तु लाश नहीं उठी पैसे उठाने के लिए..??

लक्ष्मी जी: अरे ……लाश कैसे उठेगी वो तो मरी हुई है…बेजान है ..!!

तब विष्णु जी ने बड़ा खूबसूरत जवाब दिया… बोले : जब तक मैं (प्राण)  शरीर में हूं.. तब तक ही तेरी कीमत है। और जैसे ही मैं शरीर से निकला.. तेरी कोई कीमत नहीं है…!!

Advertisements

Leave a Reply