Dr. Akhtar Khatri

होती जा रही है

धीरे धीरे से हमें तुम से मुहब्बत होती जा रही है,
ख़ुशियों में हर पल अब बरकत होती जा रही है ।

सब कुछ भूलने लगे हैं, यहाँ तक कि ख़ुद को भी,
जब से तुम से हमारी ये सोहबत होती जा रही है ।

चाहा और पा भी लिया तुम्हे, ग़ज़ब बात है ये,
लग रहा है कि ख़ुदा की रहमत होती जा रही है ।

कोई ये माने या ना माने लेकिन तुम मेरे ही हो,
हाथों की लकीरों में जैसे हरक़त होती जा रही है ।

नामुमकिन है अब एक पल भी तुम बिना, ‘अख़्तर’
ज़िन्दगी जैसे की तुम्हारी आदत होती जा रही है ।

-Dr. Akhtar Khatri

 

Advertisements

Categories: Dr. Akhtar Khatri

1 reply »

Leave a Reply