Asim Bakshi

इस साल की बारिश में

इस साल की बारिश में
एक छाते में साथ चलना मुश्किल होगा
बूंदे टपकती होगी ज़ुल्फ़ों से
हाथों से हटाना मुश्किल होगा

तुम भीगना जी भर के
साथ भीगना मुश्किल होगा
चाहे कड़केगी बिजलियाँ
बाहों में समाना मुश्किल होगा

बोहोत बुलाएगी भीगी राहें
साथ चलना मुश्किल होगा
असर तो होगा मौसम का
उसे जताना मुश्किल होगा

दूर बैठकर देखेंगे नज़ारे
पास आना मुश्किल होगा
भीगी होगी आँखे बोहोत
आंसू पोछना मुश्किल होगा !!!

-आसिम बक्षी 

Advertisements

Categories: Asim Bakshi

Leave a Reply