Dr. Akhtar Khatri

भूल जाया ना करो

अपने एहसासों को यूँ छुपाया ना करो,
चुप रह कर तुम मुझे यूँ सताया ना करो ।

अल्फ़ाज़, ख़ामोशी से अच्छे ही होते हैं,
सिर्फ़ इशारों से इश्क़ को जताया ना करो ।

कुछ बेचैन सा हो जाता है, ये मेरा मन,
रूठ कर के मेरी जान जलाया ना करो ।

ख़ुद आ कर के जान लो तुम मेरा हाल,
गैरों से ऐसे मेरा हाल पुछवाया ना करो ।

बिछड़ कर तुमसे, जी नहीं पाऊंगा मैं,
‘अख़्तर’ तुम्हारा है, भूल जाया ना करो ।

-अख़्तर खत्री

Advertisements

Categories: Dr. Akhtar Khatri

Leave a Reply