Advertisements

पूछो इन जीत से तेरी रज़ा क्या है ।

खुली आंख से सपने सज़ा लो, इन ख्यालो में बसा क्या है । अथक परिश्रम तुम कर लो, इन चापलूसी में रखा क्या है । भटको मत, लक्ष्य का पीछा करो, मंजिल से पूछो तेरा पता क्या है । राहें बनती – बिगड़ती जायेगी, पगडंडियों से घबराना क्या […]

Advertisements

तुम से है ।

मेरा वजूद मुक़म्मल तुम से है । मेरी हर एक ग़ज़ल तुम से है । मेरा मुजमें कुछ ना बचा अब, जिंदगी मेरी सफल तुम से है । जुदा हो कर कहाँ जाऊँगा में, मेरा तो हर एक पल तुम से है । धड़कता है दिल तुम्हारे होनेसे, […]

होगा ही

गरीब का ख्वाब तो होगा ही, धन नही सम्मान तो होगा ही, सदियो पुराना जो है इंसान, कहीं से ख़राब तो होगा ही; मौसम देखो कितना सर्द है ! जाम ए शराब तो होगा ही। पाला है शौक गुलफाम का; हाथ में गुलाब तो होगा ही, तकलिफ लबों […]

शुभ दीपावली

अपने अंदर का स्नेह जला कर, दीपक उजियारा करता है । ज्योति-किरण कितनी भी लघु हो, पर उस से अंधियारा ड़रता है । आओ हर दीपक-बाती के, मन में सोई जोत जलाएँ । मानवता की राह प्रकाशित, करने वाले दीप जलाएँ । सूरज़ आने के पदचापों की, आहट […]

Shayari Part 40

बिखर जाने के बाद भी नई शुरुआत हो सकती है, ख़ामोश रह कर भी मुहब्बत की बात हो सकती है । #अख़्तर_खत्री ******* तुम्हारी तपिश से पिघल जाए वजूद ये हमारा कभी तो निगाहों से तुम हमको ऐसे छुआ करो। ******* कद बढ़ा नहीं करते ,ऐड़ियां उठाने से, […]

मत करना

सिला ना मिले तो गिला मत करना, ख़ुशी से किसी की जला मत करना । मंज़िल यह रास्ता ही है, समझ लो, आंखे बंद करके चला मत करना । मुक़द्दर में लिखा, ना छिनेगा कोई, ज़रा देरी से मिले, डरा मत करना । तुमसे मिले और जो मुस्कुराये […]

क्रोध के दो मिनट

एक युवक ने विवाह के दो साल बाद परदेस जाकर व्यापार करने की इच्छा पिता से कही । पिता ने स्वीकृति दी तो वह अपनी गर्भवती पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे छोड़कर व्यापार करने चला गया । परदेश में मेहनत से बहुत धन कमाया और वह धनी सेठ बन […]

सम्मान का ऑक्सीजन

रविवार का दिन था| अखबार पढ़ने के बाद कमलेश जी बरामदे में बैठे रेडियो पर गानें सुन रहे थे| एकाएक उनके कानों में इकतारे की धुन के साथ साथ लोक संगीत के बोल घुल गये| आँखे खोलकर उन्होने आवाज की दिशा में देखा| दरवाजे पर खड़ा एक बूढ़ा […]

धनतेरस और दिवाली मैसेज

आने वाले साल की दुआ में मुझे क्या क्या चाहिए यारो के चेहरे पर ख़ुशी और लबो पर हसी चाहिए मिले ना मिले मुझे अनमोल ख़ज़ाने बेपनाह प्यार के तोहफे चाहिए कोई लेना देना नहीं मुझे दुनिया की भीड भाड़ से चारो ओर दोस्तो के मेले चाहिए चमकते […]

Brand New Version of मधुशाला

मैं औऱ मेरी तनहाई, अक्सर ये बाते करते है.. ज्यादा पीऊं या कम, व्हिस्की पीऊं या रम। मैं और मेरी तन्हाई, या फिर तोबा कर लूं.. कुछ तो अच्छा कर लूं। हर सुबह तोबा हो जाती है, शाम होते होते फिर याद आती है। क्या रखा है जीने […]

रोशन है

तसव्वुर से उस के मेरा आशियाँ रोशन है, जैसे की इस सेहरा में एक दरिया रोशन है । कल की फ़िक्र क्यूं करेगा, अंधेरों में भी वो, उस गरीब के चूल्हे में तो आसमां रोशन है । पुकार लेती है अपनी मां को अक्सर दर्द में, दुल्हन के […]

शानदार बात

एक बार संख्या 9 ने 8 को थप्पड़ मारा 8 रोने लगा पूछा मुझे क्यों मारा ..? 9 बोला : मैं बड़ा हु इसीलए मारा सुनते ही 8 ने 7 को मारा और 9 वाली बात दोहरा दी 7 ने 6 को 6 ने 5 को 5 ने […]

एक संवाद लंकेश के साथ

कल सुबह-सुबह रास्ते में एक दस सिर वाला हट्टा कट्टा बंदा अचानक मेरी बाइक के आगे आ गया। जैसे तैसे ब्रेक लगाई और पूछा.. क्या अंकल 20-20 आँखें हैं..फिर भी दिखाई नहीं देता ? जवाब मिला- थोड़ा तमीज से बोलो, हम लंकेश्वर रावण हैं ! ओह अच्छा ! […]

देवराज इंद्र और मैं…

कल रात मैंने एक “सपना”  देखा.!! सपने में….मैं और मेरी Family शिमला घूमने गए..! हम सब शिमला की रंगीन वादियों में कुदरती नजारा देख रहे थे..! जैसे ही हमारी Car Sunset Point की ओर निकली… अचानक गाडी के Break फेल हो गए और हम सब करीबन 1500 फिट […]

श्राद्ध

एक दोस्त हलवाई की दुकान पर मिल गया । मुझसे कहा- ‘आज माँ का श्राद्ध है, माँ को लड्डू बहुत पसन्द है, इसलिए लड्डू लेने आया हूँ ‘ मैं आश्चर्य में पड़ गया । अभी पाँच मिनिट पहले तो मैं उसकी माँ से सब्जी मंडी में मिला था […]

जीवन में उत्साह

एक राजा के पास कई हाथी थे, लेकिन एक हाथी बहुत शक्तिशाली था, बहुत आज्ञाकारी, समझदार व युद्ध-कौशल में निपुण था। बहुत से युद्धों में वह भेजा गया था और वह राजा को विजय दिलाकर वापस लौटा था, इसलिए वह महाराज का सबसे प्रिय हाथी था। समय गुजरता […]

क्रोध को कमजोरी नहीं ताकत बनाओ.

एक 12-13 साल के लड़के को बहुत क्रोध आता था। उसके पिता ने उसे ढेरसारी कीलें दीं और कहा कि जब भी उसे क्रोध आए वो घर के सामने लगे पेड़ में वह कीलें ठोंक दे। पहले दिन लड़के ने पेड़ में 30 कीलें ठोंकी। अगले कुछ हफ्तों […]

ईश्वर को चाहना और ईश्वर से चाहना.. दोनों में बहुत अंतर है…

एक नगर के राजा ने यह घोषणा करवा दी कि कल जब मेरे महल का मुख्य दरवाज़ा खोला जायेगा..तब जिस व्यक्ति ने जिस वस्तु को हाथ लगा दिया वह वस्तु उसकी हो जाएगी.. इस घोषणा को सुनकर सब लोग आपस में बातचीत करने लगे कि मैं अमुक वस्तु […]

कभी खुद से भी मिला कीजिये…

न चादर बड़ी कीजिये, न ख्वाहिशें दफन कीजिये, चार दिन की ज़िन्दगी है, बस चैन से बसर कीजिये… न परेशान किसी को कीजिये, न हैरान किसी को कीजिये, कोई लाख गलत भी बोले, बस मुस्कुरा कर छोड़ दीजिये… न रूठा किसी से कीजिये, न रूठा किसी को रहने […]

कलाम की कलम से

डॉ. अब्दुल कलाम के शब्द… Quote 1 : इससे पहले की सपने सच हो आपको सपने देखने होंगे। Quote 2 : सपना वो नहीं है जो आप नींद में देखे, सपने वो है जो आपको नींद ही नहीं आने दे। Quote 3 : इंतज़ार करने वालो को सिर्फ […]

Shayri Part 39

बहुत सरल है, किसी को पसंद आना, कठिन तो है, हमेंशा पसंद बने रहना। ******* “तुम मुझे अब याद नहीं आते… तुम मुझे याद हो गये हो अब……!! ******* आज दिल चाह रहा है इतना मुस्कुराऊँ कि रोने लग जाऊं. ******* “खो” देते हैं, फिर… “खोजा” करते हैं, […]

चाय सिर्फ़ चाय ही नहीं होती…

चाय पियेंगे ? जब कोई पूछता है “चाय पियेंगे..?” तो बस नहीं पूछता वो तुमसे दूध ,चीनी और चायपत्ती को उबालकर बनी हुई एक कप चाय के लिए। वो पूछता हैं… क्या आप बांटना चाहेंगे कुछ चीनी सी मीठी यादें कुछ चायपत्ती सी कड़वी दुःख भरी बातें..? वो […]

अच्छी आदत का प्रतिफल

एक बर्फ बनाने की विशाल फैक्ट्री थी! हजारों टन बर्फ हमेशा बनता था ! सैकड़ों मजदूर व अन्य कर्मचारी एवं अधिकारी वहां कार्य करते थे ! उन्ही में से था एक कर्मचारी अखिलेश ! अखिलेश उस फैक्ट्री में पिछले बीस वर्षों से कार्य कर रहा था ! उसके […]

बंदरों की ज़िद्द

एक बार कुछ scientists ने एक बड़ा ही interesting experiment किया.. उन्होंने 5 बंदरों को एक बड़े से पिंजरे में बंद कर दिया और बीचों -बीच एक  सीढ़ी लगा दी जिसके ऊपर केले लटक रहे थे.. जैसा की expected था, जैसे ही एक बन्दर की नज़र केलों पर […]

श्रीकृष्ण की माया

सुदामा ने एक बार श्रीकृष्ण ने पूछा कान्हा, मैं आपकी माया के दर्शन करना चाहता हूं… कैसी होती है?” श्री कृष्ण ने टालना चाहा, लेकिन सुदामा की जिद पर श्री कृष्ण ने कहा, “अच्छा, कभी वक्त आएगा तो बताऊंगा|” और फिर एक दिन कहने लगे… सुदामा, आओ, गोमती में […]

श्री हनुमान चालीसा अर्थ सहित.

श्री गुरु चरण सरोज रज,निज मन मुकुरु सुधारि। बरनऊँ रघुवर बिमल जसु,जो दायकु फल चारि। अर्थ : शरीर गुरु महाराज के चरण कमलों की धूलि से अपने मन रुपी दर्पण को पवित्र करके श्री रघुवीर के निर्मल यश का वर्णन करता हूँ,जो चारों फल धर्म,अर्थ,काम और मोक्ष को […]

लोगों की अपेक्षाओं का कोई अन्त नहीं है।

रात के समय एक दुकानदार अपनी दुकान बन्द ही कर रहा था कि एक कुत्ता दुकान में आया । उसके मुॅंह में एक थैली थी। जिसमें सामान की लिस्ट और पैसे थे। दुकानदार ने पैसे लेकर सामान उस थैली में भर दिया। कुत्ते ने थैली मुॅंह मे उठा […]

​कछुआ और खरगोश की नयी  कहानी जो आपने कभी नहीं सुनी होगी ।

आपने कछुए और खरगोश की कहानीज़रूर सुनी होगी, just to remind you; short में यहाँ बता देता हूँ: एक बार खरगोश को अपनी तेज चाल पर घमंड हो गया और वो जो मिलता उसे रेस लगाने के लिए challenge करता रहता। कछुए ने उसकी चुनौती स्वीकार कर ली। रेस हुई। खरगोश […]

कर्म की गति

एक कारोबारी सेठ सुबह सुबह जल्दबाजी में घर से बाहर निकल कर ऑफिस जाने के लिए कार का दरवाजा खोल कर जैसे ही बैठने जाता है, उसका पाँव गाड़ी के नीचे बैठे कुत्ते की पूँछ पर पड़ जाता है। दर्द से बिलबिलाकर अचानक हुए इस वार को घात […]

अच्छे कर्म … बुरे कर्म …

1 दिन एक राजा ने अपने 3 मन्त्रियो को दरबार में  बुलाया, और  तीनो  को  आदेश  दिया  के  एक  एक  थैला  ले  कर  बगीचे  में  जाएं .., औरवहां  से  अच्छे  अच्छे  फल  (fruits ) जमा  करें . वो  तीनो  अलग  अलग  बाग़  में प्रविष्ट  हो  गए , पहले  […]