Advertisements

Tag: #shayri

Shayri Part 38

नादान आईने को क्या खबर, कि, एक चेहरा, चेहरे के अन्दर भी होता है…। ******* बदल दिए हैं हमने….अब नाराज होने के तरीके रूठने की बजाय..बस हल्के से मुस्कुरा देते हैं…। ******* भिड मे जिने की आदत नही मुजे थोडे मे जिना सिख लिया है मेने….. चन्द दोस्त […]

Advertisements

Shayri Part 37

तुम अपने ज़ुल्म की इन्तेहा कर दो,… फिर तुम्हें शायद कोई हम सा बेज़ुबाँ मिले ना मिले… ******* ये कश्मकश है ज़िंदगी की…कि कैसे बसर करें …… चादर बड़ी करें या …ख़्वाहिशे दफ़न करे….. ******* उनका इल्ज़ाम लगाने का अन्दाज़ इतना गज़ब था….. कि हमने खुद अपने ही […]

Shayri Part 35

अल्फ़ाज़ के कुछ तो कंकर फ़ेंको, यहाँ झील सी गहरी ख़ामोशी है। ******* धीरे धीरे बहुत कुछ बदल रहा है… लोग भी…रिश्ते भी…और कभी कभी हम खुद भी…. ******* जागना भी कबूल हैं तेरी यादों में रात भर, तेरे एहसासों में जो सुकून है वो नींद में कहाँ […]

Shayri part 4

Laakh Samjaya k Shak Karti He Ye Duniya…! Magar Na Gai Uski AAdat Hans Kar Guzr Jane Ki… ******* Isse acha hum chand se mohbbat kar lete …! Lakh dur sahi par dikhai to deta hai…! ******* Is Baarish Kay Mausam Main Ajeeb Si Kashish Hai Na Chahte […]

Shayri part 3

ये दुनिया वाले भी बड़े अजीब होते है कभी दूर तो कभी क़रीब होते ह ै दर्द ना बताओ तो हमे कायर कहते है और दर्द बताओ तो हमे शायर कहते है …. ******** “जिंदगी में हद से ज्यादा ख़ुशी और हद से ज्यादा गम का कभी किसी […]